societal-infrastructures-and-development-SID-program-chhattisgarh-raipur-bhilai

एसाईड योजना के तहत प्रदेश में 50.79 करोड़ रुपए के कार्य पूर्ण


निर्यात को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार के सहयोग से छत्तीसगढ़ में एसाईड योजना का संचालन किया जा रहा है. इस योजना के तहत राज्यों को अपने क्षेत्र में निर्यात सम्बन्धी अधोसंरचना और सहायक गतिविधियों के विकास हेतु सहायता दी जाती है . उल्लेखनीय है कि एसाईड (असिस्टेंस टू स्टेट्स फॉर डेवलपमेंट ऑफ़ एक्सपोर्ट इंफ्रास्ट्रक्चर एंड अलाइड एक्टिविटीज ) योजना के तहत वर्ष 2002 -03 से लेकर अब तक प्रदेश में 62 .47 करोड़ रूपए की राशि प्राप्त हुयी है. जिसमें से 50 .79 करोड़ रुपए के कार्य पूर्ण हो चुके हैं. वर्ष 2013-14 और वर्ष वर्ष 2014-15 में इस योजना के तहत  केंद्र सरकार द्वारा 24.05  करोड़ रुपए की राशि उपलब्ध कराई गयी जिससे नया रायपुर स्थित  श्यामाप्रसाद मुखर्जी उद्योग एवं व्यापार परिसर में  राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर के व्यापार मेले ,निर्यात प्रोत्साहन से सम्बंधित सेमिनार ,वर्कशॉप ,व्यावसायिक सम्मेलन ,प्रदर्शनी आदि का आयोजन किया गया . साथ ही एसाईड योजना के तहत केंद्र सरकार ने अनुसूचित जाति उपयोजना में शिल्पग्राम के निर्माण हेतु 1.80 करोड़ रुपए का अनुदान दिया है .इस राशि से श्यामाप्रसाद मुखर्जी उद्योग एवं व्यापार परिसर ग्राम तूता में शिल्पग्राम का निर्माण किया जा रहा है . इस योजना के तहत रायपुर जिले के उरला ,रावांभाठा –भनपुरी औद्योगिक क्षेत्र ,बिलासपुर जिले के सिरगिट्टी औद्योगिक क्षेत्र दुर्ग जिले के भिलाई औद्योगिक क्षेत्र  तथा रायपुर कापा  स्थित इनलैंड कंटेनर डिपो में आयात-निर्यात गतिविधियों से सम्बंधित अधोसंरचना विकास के विभिन्न कार्य सम्पादित किये गए हैं.

उल्लेखनीय है कि इस योजना के क्रियान्वयन के लिए छत्तीसगढ़ औद्योगिक विकास निगम को नोडल एजेंसी बनाया गया है . मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित “ राज्य निर्यात संवर्धन समिति “ द्वारा योजनाओं और कार्यों का चयन और स्वीकृति प्रदान की जाती है .इस योजना के तहत केंद्र सरकार द्वारा राज्य से होने वाले निर्यात के अनुपात में प्रतिवर्ष राशि उपलब्ध करायी जाती है.