smart-city-summit-raipur-chhattisgarh-amar-agrawal

प्रधानमंत्री के स्मार्ट सिटी की परिकल्पना को रायपुर तेजी से कर रहा साकार: रायपुर में तीन दिवसीय ‘‘स्मार्ट सिटी समिट‘‘ का शुभारंभ


प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 2014 में जब देश के 100 शहरों को स्मार्ट सिटी बनाने की घोषणा की तब सभी के मन में यह विचार आया कि इतने पुराने शहरों को किस तरह आधुनिक और सुव्यवस्थित बनाया जाएगा, इसके लिए राशि कहां से आएगी, परंतु आज इस दिशा मे तेजी से काम हो रहा है और रायपुर शहर स्मार्ट सिटी बनने की दिशा में तेजी से अग्रसर है। छत्तीसगढ़ के नगरीय प्रशासन मंत्री श्री अमर अग्रवाल ने आज यहां वीआईपी रोड स्थित एक निजी होटल डब्ल्यू वी केन्यान में आयोजित तीन दिवसीय ‘‘स्मार्ट सिटी समिट‘‘ का शुभारंभ करते हुए उपरोक्त बातें कही। श्री अग्रवाल ने कहा कि रायपुर शहर के 150 साल पूर्ण होने के अवसर पर आयोजित यह ‘‘स्मार्ट सिटी समिट‘‘ इस बात का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि पहले शहरों में इंटीग्रटेड प्लानिंग का अभाव था। विकास कार्य तो होते थे परंतु इनका सही लाभ वहां के नागरिकांे को नही मिल पाता था। स्मार्ट सिटी की परिकल्पना से इन शहरों के विकास को एक नई दिशा व गति मिली है।
गौरतलब है कि रायपुर शहर के 150 साल पूर्ण होने के अवसर पर रायपुर नगर निगम, रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड, इलेट्स टेक्नालॉजी प्राइवेट लिमिटेड तथा अविनाश गु्रप द्वारा इस तीन दिवसीय स्मार्ट सिटी समिट का आयोजन किया जा रहा है। तीन दिन तक चलने वाले इस समिट में छत्तीसगढ़ सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों सहित देश के विभिन्न शहरों के मेयर, कमिश्नर, मल्टीनेशनल कंपनियों के सीईओ, इंवेस्टर, कंसल्टेंट और विषय विशेषज्ञ स्मार्ट सिटी के बारे में अपने अनुभव साझा करेंगे। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह पहले दिन शाम को आयोजित इंवेस्टर मीट में विभिन्न औद्योगिक संस्थानों के प्रतिनिधियों से चर्चा करेंगे वहीं केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री श्री एम. वेंकैया नायडू समिट के अंतिम दिन 26 मई को इसमें शामिल होंगे।
नगरीय प्रशासन मंत्री श्री अग्रवाल ने समिट में उपस्थित अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि उनके अनुभव और बेस्ट प्रेक्टिसिस का लाभ रायपुर सहित पूरे छत्तीसगढ़ को मिलेगा। उन्होंने बताया कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत चयनित देश के 100 शहरों में छत्तीसगढ़ के दो शहर रायपुर और बिलासपुर शामिल है। इसके साथ ही इसी तर्ज पर राज्य सरकार भिलाई, कोरबा और राजनांदगांव शहर को वहां के नगर निगम व पीपीपी मॉडल से उन्हें स्मार्ट शहर बनाने का कार्य कर रही है। श्री अग्रवाल ने बताया कि सालिड वेस्ट मेनेजमेंट में अंबिकापुर शहर ने मिशाल कायम की है जिसकी सराहना पूरे देश में हुई है। इसी तरह अगले चरण में प्रदेश के अन्य शहरों को भी इसमें शामिल किया जाएगा।
रायपुर उत्तर के विधायक श्री श्रीचंद सुन्दरानी ने कहा कि जब भी कोई रायपुर शहर आता है तो उसे यहां हर बार कुछ नया देखने को मिलता है। रायपुर आज तेजी से विकसित शहरों की ओर अपना कदम बढ़ा रहा है। रायपुर नगर निगम के महापौर श्री प्रमोद दुबे ने कहा कि रायपुर सर्वाधिक संभावनाओं वाला शहर है। यहां इंवेस्टर्स के लिए बेहतर माहौल और संसाधन मौजूद है। राज्य निर्माण के बाद 17 सालों में रायपुर शहर ने विकास के नए कीर्तिमान स्थापित किए है। रायपुर नगर निगम के आयुक्त और स्मार्ट सिटी के सीईओ श्री रजत बंसल ने कहा एक अच्छी सोच एक अच्छी व्यवस्था को और एक अच्छी व्यवस्था एक अच्छे वातावरण को निर्मित करती है। यही इस स्मार्ट सिटी समिट का उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि आप सभी के सुझाव व अनुभव से हम रायपुर को एक विश्वस्तरीय शहर के रूप में पहचान दिला सकेंगे। इस अवसर पर नगरीय प्रशासन विभाग के विशेष सचिव डॉ. रोहित यादव, भारत सरकार के पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय के पूर्व सचिव श्री पंकज जैन, नगर निगम रायपुर के उपनेता प्रतिपक्ष श्री राकेश ठाकुर, इलेट्स के सीईओ डॉ. रवि गुप्ता, अविनाश ग्रुप के एमडी श्री आनंद सिंघानिया सहित बड़ी संख्या में देश के विभिन्न शहरों के मेयर, कमिश्नर, मल्टीनेशनल कंपनियों के सीईओ, इंवेस्टर, कंसल्टेंट और विषय विशेषज्ञ उपस्थित थे।