amar-agrawal-smart-city-chhattisgarh

स्मार्ट सिटी के लिए मास्टर प्लान


छत्तीसगढ़ के नगरीय प्रशासन मंत्री श्री अमर अग्रवाल ने कहा है कि देश में स्मार्ट सिटी की परिकल्पना को साकार करने के लिए यह जरूरी है कि हम 50 वर्षो की जरूरतों को ध्यान में रखकर उसका मास्टर प्लान बनाएं। इसके लिए इंटीग्रेटेड प्लानिंग व संसाधनों की उपलब्धता को ध्यान में रखना बहुत जरूरी हैं। वे आज नई दिल्ली में इंडियन चेम्बर आप कामर्स द्वारा स्मार्ट सिटी पर आयोजित परिचर्चा में बोल रहे थे। बैठक में केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री श्री एम. वैंक्या नायडू, इंडियन चैम्बर ऑफ कामर्स के अध्यक्ष श्री रूपन राय, जी, एस्सल ग्रुप के चैयरमैन श्री सुभाष चन्द्रा व अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे। उन्होंने कहा है कि यह जरूरी नहीं कि हमारे पास इसके लिए पर्याप्त धन व संसाधन उपलब्ध हों। परन्तु सकारात्मक सोच, सुव्यवस्थित योजना निर्माण, अभिनव पहल तथा नवीनतम तकनीको के माध्यम से हम किसी भी शहर को स्मार्ट सिटी बना सकते है। उन्होने कहा है कि हमने नया रायपुर को देश के चुनिन्दा शहरों में ला खड़ा किया हैं। पीपीपी मॉड़ल के द्वारा हम तमाम ऐसे संसाधनों व जरूरतों को एक सुव्यवस्थित शहर की जरूरतों के हिसाब से पूरा कर सकते है। श्री अग्रवाल ने कहा है कि यदि देश में नया रायपुर, चंडीगढ़ व अन्य शहर स्मार्ट सिटी की तर्ज पर विकसित हो सकते है तो दूसरे शहर क्यों नहीं हैं। आने वाले 10 वर्षो में नया रायपुर देश ही नहीं दुनिया के बेहतरीन शहरों में से एक होगा। श्री अग्रवाल ने कहा है कि आज देश के सामने एक बड़ी चुनौती यह है कि शहरों का व्यवस्थित विकास कैसे हो। तेजी से बढ़ते शहरीकरण से उत्पन्न समस्या को दूर करने के लिए शहरों को स्मार्ट रूप देना जरूरी हो गया है। चरणबद्ध योजना निर्माण, संसाधनों की उपलब्धता को सुनिश्चित करते हुए प्रतिबद्ध रूप से योजना व नीतियों को मूल रूप में क्रियान्वित कर स्मार्ट सिटी की परिकल्पना को साकार कर सकते हैं।