smart-city-chhattisgarh

सभी नगर निगम क्षेत्रों को स्मार्ट सिटी की तर्ज पर विकसित करने का प्रयास


नगरीय प्रशासन और विकास मंत्री श्री अमर अग्रवाल ने कहा है कि राज्य के दो बड़े नगर निगम क्षेत्रों रायपुर और बिलासपुर को स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित करने का प्रस्ताव राज्य केन्द्र सरकार को भेजा गया है। इन दोनों शहरों के नाम राष्ट्रीय स्तर की प्रतिस्पर्धा के लिए केन्द्र को भेजे गए हैं। वहां चयनित होने पर दोनों शहरों को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए केन्द्र से पर्याप्त राशि मिलेगी। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के अन्य सभी नगर निगम क्षेत्रों को राज्य सरकार अपने संसाधनों से स्मार्ट सिटी की तर्ज पर विकसित करने का प्रयास करेगी।
श्री अग्रवाल ने आज यहां बताया कि इसके लिए कार्य योजना बनायीं जा रही है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने अपनी 100 स्मार्ट सिटी परियोजना के लिए जनसँख्या के आधार पर प्रदेश को दो शहरों का लक्ष्य दिया था। छत्तीसगढ़ के लिए हर्ष और गौरव की बात है कि राज्य स्तरीय प्रतिस्पर्धा के आधार पर  प्रदेश के  दो शहरों बिलासपुर और रायपुर का चयन स्मार्ट सिटी परियोजना हेतु किया गया है. इसके लिए 13 मानक तय किये गए थे जिसके आधार पर ग्यारह नगर निगमों ने अपनी प्रविष्टियाँ भेजी थीं। सभी प्रविष्टियों की जाँच करने के बाद रायपुर और बिलासपुर की प्रविष्टियों  को आगामी प्रतियोगिता के लिए भारत सरकार को भेज दिया गया है।
श्री अग्रवाल ने बताया कि भले ही भारत सरकार ने स्मार्ट सिटी के लिए 2 शहरों का कोटा निर्धारित किया है लेकिन राज्य शासन ने  प्रदेश के अन्य नगर निगमों को भी अपने संसाधनों से स्मार्ट शहर की तरह विकसित करने का निर्णय लिया है .प्रदेश के अन्य सभी नगर निगमों को भी  स्मार्ट सिटी की तर्ज पर ही विकसित किया जायेगा .इन नगर निगमों का उन्नयन और विकास स्मार्ट सिटी के मापदंडों जैसे मजबूत और व्यवस्थित अधोसंरचना, सक्षम और सुव्यवस्थित सार्वजनिक परिवहन, सुशासन विशेषतः नागरिक भागीदारी और ई गवर्नेंस, सुस्थिर पर्यावरण, महिलाओं बच्चों और बुजुर्गों कि सुरक्षा, स्वास्थ्य और शिक्षा, पर्याप्त जलापूर्ति, सुनिश्चित विद्युत् आपूर्ति, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के तहत साफ सफाई, गरीबों के लिए किफायती आवास  आदि के आधार पर किया जायेगा। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने एक लाख से अधिक जनसँख्या वाले 500  शहरों के लिए अमृत मिशन (अटल नवीकरणएवं शहरी परिवर्तन मिशन ) की भी शुरुआत की है जिसका फायदा प्रदेश के  शहरों को मिलेग।