food-processing-industries-chhattisgarh-amar-agrawal

खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों में 84.36 करोड़ का पूंजी निवेश


राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों को बढ़ावा देने की नीति के उत्साहजनक नतीजे मिलने लगे हैं। इस नीति के तहत वित्तीय वर्ष 2012-13 से वर्ष 2014-15 तक तीन वर्ष में 19 नये उद्योगों की स्थापना के लिए लगभग 84 करोड़ 36 लाख रूपए का पूंजी निवेश हुआ है। छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम से प्राप्त जानकारी के अनुसार यह पूंजी निवेश राष्ट्रीय खाद्य प्रसंस्करण मिशन के अन्तर्गत किया गया है। इन उद्योगों में मुख्य रूप से दूध उत्पादन और दूध की कोल्ड चेन इकाईयां शामिल हैं। इन इकाईयों को 19 इकाईयों को 24 करोड़ 31 लाख रुपए का अनुदान भी स्वीकृत किया गया है। इसमें से अब तक 10 करोड़ 70 लाख रुपए वितरित किए जा चुके हैं। इस पूंजी निवेश से रायपुर और दुर्ग क्षेत्र में दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा मिला है और दुग्ध कोल्ड चेन का विकास हुआ है। राष्ट्रीय खाद्य प्रसंस्करण मिशन द्वारा छत्तीसगढ़ में  विगत तीन वर्षों में राज्य के 119 विभिन्न स्थानों पर तीन हजार लोगों को प्रशिक्षित किया गया है। विगत तीन वर्ष में जिन उद्योगों द्वारा खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में राज्य में पूंजी निवेश किया गया है। उनमें मेसर्स अमृतमय फूड्स प्रायवेट लिमिटेड द्वारा कोल्ड चेन स्कीम के लिए दो करोड़ 73 लाख रूपए और रिफर व्हीकल के लिए एक करोड़ 02 लाख 42 हजार रूपए, मेसर्स सनराईज इंडस्ट्रीज द्वारा तकनीकी उन्नयन के लिए दो करोड़ 86 लाख रूपए, मेसर्स मोतील देवी आर्गेनिक फूड इंडस्ट्रीज प्रायवेट लिमिटेड द्वारा तकनीकी उन्नयन के लिए पांच करोड़ 35 लाख रूपए और रिफर व्हीकल के लिए 75 लाख रूपए, मेसर्स ग्लोरियस बेकर्स के द्वारा तकनीकी उन्नयन के लिए तकनीकी उन्नयन के लिए एक करोड़ 39 लाख रूपए, मेसर्स सी.जी. सोया प्रोडक्ट प्रायवेट लिमिटेड के द्वारा कोल्ड चेन के लिए 13 करोड़ 41 लाख 95 हजार रूपए और रिफर व्हीकल के लिए एक करोड़ 02 लाख 73 हजार रूपए, मेसर्स कुकरेजा इन्टरप्राइजेस द्वारा तकनीकी उन्नयन के लिए दो करोड़ 04 लाख 26 हजार रूपए, मेसर्स वामा डेयरी प्रायवेट लिमिटेड द्वारा कोल्ड चेन के लिए 13 करोड़ 76 लाख 65 हजार रूपए, मेसर्स भिलाई इंजीनियरिंग कार्पोरेशन (फूड डिविजन) द्वारा कोल्ड चेन के लिए 20 करोड़ 69 लाख 57 हजार रूपए, मेसर्स राजेश उद्योग द्वारा तकनीकी उन्नयन के लिए दो करोड़ एक लाख 60 हजार रूपए, मेसर्स शिव शक्ति पल्सेस द्वारा तकनीकी उन्नयन के लिए एक करोड़ 81 लाख 36 हजार रूपए, मेसर्स सतगुरू उद्योग द्वारा तकनीकी उन्नयन के लिए दो करोड़ 65 लाख 87 हजार रूपए, मेसर्स स्वामी उद्योग द्वारा तकनीकी उन्नयन के लिए दो करोड़ 64 लाख 77 हजार रूपए, मेसर्स पीएनजी प्रोडक्ट द्वारा तकनीकी उन्नयन के लिए दो करोड़ 18 लाख 76 हजार रूपए का निवेश किया गया है।