amar-agrawal-state-finance-commissioner-chhattisgarh-meeting

नगरीय प्रशासन मंत्री के साथ राज्य वित्त आयोग अध्यक्ष की बैठक : नगरीय निकायों को वर्तमान जनसंख्या के आधार पर राजस्व का हिस्सा निर्धारित हो


नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री श्री अमर अग्रवाल के साथ राज्य वित्त आयोग के अध्यक्ष श्री चन्द्रशेखर साहू ने आज यहां बैठक में विभिन्न विषयों पर विचार-विमर्श किया। नगरीय प्रशासन मंत्री श्री अग्रवाल ने वित्त आयोग के अध्यक्ष को बताया कि जी.एस.टी. लागू होने पर नगरीय निकायों के वित्तीय संसाधनों पर गहरा प्रभाव पड़ेगा, क्योंकि वर्तमान परिवेश में नगरीय निकाय को क्षति-पूर्ति में कई योजनाओं जैसे मनोरंजन कर से प्राप्त राशि से अनुदान, राज्य उत्पाद कर से नगरीय निकायों को अनुदान, यात्री कर समाप्त किए जाने के एवज में स्थानीय निकायों को विशेष अनुदान आदि में बजट प्राप्त होता है। बैठक में बताया गया कि जी.एस.टी. लागू होने से निकायों को उपरोक्त योजनाओं में राशि मिलना बंद हो जाएगी। इससे उनकी आर्थिक स्थिति पर गहरा फर्क पड़ेगा।
श्री अग्रवाल ने कहा-जी.एस.टी. प्रभावशील होने पर प्राप्त होने वाले राजस्व कर से निकायों के समाप्त होने वाले क्षति-पूर्ति अनुदान की पूर्ति जी.एस.टी. से करना चाहिए। राज्य के स्वयं के शुद्ध कर राजस्व में नगरीय निकायों का कितना प्रतिशत रहना चाहिए इसके जवाब में विभाग ने राज्य वित्त आयोग को बताया कि वर्तमान में द्वितीय राज्य वित्त आयोग की अनुशंसा पर राज्य के शुद्ध कर राजस्व का आठ प्रतिशत स्थानीय निकायों को दिया जाना है। जिसमें 1.86 प्रतिशत नगरीय निकायों और 6.14 प्रतिशत पंचायतों को दिया जा रहा है।
श्री अग्रवाल ने आयोग के अध्यक्ष को बताया कि राज्य के शुद्ध कर राजस्व से नगरीय निकायों को उनकी वर्तमान जनसंख्या के आधार पर हिस्सा निर्धारित किया जाना चाहिए। बैठक में विभाग ने राज्य वित्त आयोग को जानकारी दी कि निगम द्वारा संचालित अग्निशमन सेवाएं गृह विभाग को हस्तांतरित किया जाना उचित है क्योंकि फायर ब्रिगेड की सेवाएं पूरे जिले में की जाती है। जिससे नगर पालिक निगम को अधिक भार वहन करना पड़ रहा है। साथ ही नगर निगम संचालित स्ट्रीट लाईट की पूर्ण व्यवस्था विद्युत मंडल को हस्तांतरित किया जाना निगम हित में उचित है। बैठक में आयोग के सदस्य श्री नरेन्द्र चंद्र गुप्ता, सदस्य सचिव श्री भरत अग्रवाल, नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग के विशेष सचिव डॉ. रोहित यादव, संचालक श्री निरंजन दास और संयुक्त सचिव श्री जितेन्द्र शुक्ला भी उपस्थित थे।